mom ka sher story in hindi – akbar birbal ki kahani hindi me

mom ka sher story in hindi – akbar birbal ki kahani hindi me 

 

दोस्तों एक बार की बात है जब राजा अकबर की अच्छी शासन प्रणाली के किस्से दूर दूर तक सुने जाते थे ! तभी वहा पास के राजा को जब महाराज अकबर चर्चित शासन प्रणाली के बारे में पता चला की वो किसी भी समस्या का समाधान आसानी से कर लेते है और सभी को सही निर्णय सुनते है तो उस पडोसी राजा ने सोचा क्यों न मैं इस राजा अकबर का टेस्ट लू . तभी राजा को एक तरक़ीब आती है और वो राजा अकबर के दरबार में अपने एक मंत्री को एक पहेली के साथ भेजता है वह मंत्री राजा के दरबार में अगली सुबह पहुँचता है और राजा अकबर से कहता है महाराज मै आपके पडोसी राज्य से आया हु और आपकी न्यायपूर्ण शासन प्रणाली के किस्से हमारे राज्य में भी काफी विख्यात है इसलिए मैं आज आपके सामने एक पहेली ले कर आया हु . केवल यह देखने की क्या आप अपनी सूझबूझ से इस पहेली का हल निकाल पाते है की नहीं ! तो इस पर महाराज अकबर कहते है की ठीक है आप बताइये आप क्या पूछना चाहते है इस पर वह मंत्री अपने एक सिपाही को किसी काम से भेजता है और कुछ ही देर में सिपाही एक बड़ा सा पिंजरा और उसके बाद एक मोम का शेर ले कर राजा के दरबार में आता है और उस मोम के शेर को उस पिंजरे में कैद कर देता है पिंजरे में कैद करने के बाद वह सिपाही चला जाता है और वह मंत्री राजा अकबर से कहता है महाराज ये मोम का शेर जो इस पिंजरे में बंद है क्या आप उसे बहार निकाल सकते है बिना पिंजरे को छुए ! अगर आपने यह कर दिया तो हम भी आपको मान जायेंगे की वाकई में आपकी शासन प्रणाली प्रशंसा योग्य है

 

अब महाराज अकबर काफी सोच में पड़ गए की कैसे इस शेर को इस पिंजरे में से बाहर निकला जाये बिना हाथ लगाए ! बीरबल जो राजा के मुख्य सलाहकार थे वो भी ये सारी बाते बड़े ही ध्यान से सुन रहे थे और महाराज अकबर से बोले ! महाराज अगर आप मुझे आज्ञा दे तो मैं इस पहली को सुलझाने का प्रयत्न करू ! तो इस पर महाराज बीरबल को आज्ञा देते है  थोड़ी देर सोचने के पश्चात् बीरबल अपने एक सैनिक को एक गरम लोहे की छड़ी लाने के लिए कहते है दरबार में खड़े सभी लोग बड़े ही आश्चर्य से बीरबल की और देख रहे होते है की बीरबल क्या करने जा रहे है  थोड़ी देर में सैनिक गरम लोहे की छड़ी लेकर दरबार में आता है ! बीरबल उस छड़ी को अपने हाथ में ले लेते है और उस छड़ी को पिंजरे के पास शेर के समीप ले जाते है और थोड़ी देर उस गरम छड़ी को हवा में शेर के समीप रखते है छड़ी की गर्मी पा कर मोम का शेर फिगलने लगता है और देखते ही देखते पूरा मोम का शेर फीगल जाता है और फिगल कर पिंजरे से बाहर निकाल जाता है ! इस तरह से बीरबल उस शेर को बिना हाथ लगाए पिंजरे से बाहर निकाल देते है दरबार में राजा अकबर समेत सभी जन बीरबल की इस तरक़ीब की वाहवाही करने लगते है ! और वह मंत्री जो पडोसी राज्य से आया था अपना सर झुका कर वापिस चला जाता है  तो इस तरह बीरबल ने

अपनी सूझबूझ से इस पहेली को सुलझा लिया और महाराजा का सर और ऊचा कर दिया ! दोस्तों अगर आपको ये कहानी पसंद आयी तो कमेंट में लिख कर जरूर बताये ! धन्यवाद्

mom ka sher story in hindi       मोम का शेर स्टोरी

Related posts

Leave a Comment